Hindi English Gujarati Marathi Urdu
नमस्कार हमारे न्यूज पोर्टल - मे आपका स्वागत हैं ,यहाँ आपको हमेशा ताजा खबरों से रूबरू कराया जाएगा , खबर ओर विज्ञापन के लिए संपर्क करे +91 7016137778 / +91 9537658850 ,हमारे यूट्यूब चैनल को सबस्क्राइब करें, साथ मे हमारे फेसबुक को लाइक जरूर करें , सिंदरी | सिंदरी एफसीआईएल के जमीन पर बसा झोपड़ी मार्केट नाम से ही समझ में आता है कि झोपड़ी बाजार मतलब जितनी भी दुकानें और मकान होंगी – Joshi News

Joshi News

Latest Online Breaking News

सिंदरी | सिंदरी एफसीआईएल के जमीन पर बसा झोपड़ी मार्केट नाम से ही समझ में आता है कि झोपड़ी बाजार मतलब जितनी भी दुकानें और मकान होंगी

😊 Please Share This News 😊

सिंदरी | सिंदरी एफसीआईएल के जमीन पर बसा झोपड़ी मार्केट नाम से ही समझ में आता है कि झोपड़ी बाजार मतलब जितनी भी दुकानें और मकान होंगी उसका छत टाली, खपड़ा या एस्बेस्टस का होगा, परंतु अपने नाम के विपरीत यहाँ की सभी दुकानें लगभग बहुमंजिले हैं और वहाँ बसे लोगों में अधिकतर लोग थोक विक्रेता एवं बड़े व्यवसायी हैं। अभी वर्तमान में भी एक व्यवसायी द्वारा नियमों को ताख पर रखकर अवैध निर्माण किया जा रहा है जिसकी जानकारी एफसीआईएल प्रबंधन को पत्रकारों के द्वारा दिया गया लेकिन प्रवंधन अवैध निर्माण पर चुपी साध लिया।14 अगस्त 2022 को एफसीआई के ओएसडी सुरेन्द्र सिंह शेखवात दिल्ली एफसीआईएल कार्यालय से सिंदरी आये और एक प्रेस वार्ता में कहा कि सिंदरी से अवैध निर्माण कार्य को खत्म कर दिया जाएगा और इसके लिए जल्द-से-जल्द विभिन्न अधिकारियों से वार्ता कर फैसला लिया जायेगा। इस बाबत कई बार एफसीआई के विभिन्न अधिकारियों को अलग-अलग जगहों पर हो रहे अवैध निर्माण से संबंधित जानकारी दी गयी पर, वहाँ उससे संबंधित लोग पहुँच कर अपना जेब गर्म कर उसे निर्माण के लिए इजाजत दे देते है, जिसके परिणामस्वरूप पूरे शहर में अवैध कब्जाधारियों ने सड़क किनारे, पार्किंग आदि को भी हथियाने से परहेज नहीं किया। एफसीआईएल में जा कर पत्रकारों ने जब एफसीआईएल के कार्यपालक पदाधिकारी यु सी गौर को झोपड़ी बाजार में अवैध निर्माण का सही शक्ल दिखाया तो वे आश्चर्यचकित हो गए और थोड़ी ही देर बाद श्री गौर ने पत्राचार के माध्यम से शहर के अवैध कब्जाधारियों को एक नोटिस दिया, जिसमे : *शहर के अवैध कब्जाधारियों को चेताया है कि रोड के किनारे की जमीन को जिन्होंने भी कब्जा कर अवैध निर्माण किया है, उस सभी निर्माण को एक माह बाद ध्वस्त कर दिया जाएगा।*

व्हाट्सप्प आइकान को दबा कर इस खबर को शेयर जरूर करें 

स्वतंत्र और सच्ची पत्रकारिता के लिए ज़रूरी है कि वो कॉरपोरेट और राजनैतिक नियंत्रण से मुक्त हो। ऐसा तभी संभव है जब जनता आगे आए और सहयोग करे

Donate Now

[responsive-slider id=1466]
error: Content is protected !!