Hindi English Gujarati Marathi Urdu
नमस्कार हमारे न्यूज पोर्टल - मे आपका स्वागत हैं ,यहाँ आपको हमेशा ताजा खबरों से रूबरू कराया जाएगा , खबर ओर विज्ञापन के लिए संपर्क करे +91 7016137778 / +91 9537658850 ,हमारे यूट्यूब चैनल को सबस्क्राइब करें, साथ मे हमारे फेसबुक को लाइक जरूर करें , स्थानीय युवाओं को कौशल विकास के नाम पर ठग रही हर्ल – Joshi News

Joshi News

Latest Online Breaking News

स्थानीय युवाओं को कौशल विकास के नाम पर ठग रही हर्ल

😊 Please Share This News 😊

स्थानीय युवाओं को कौशल विकास के नाम पर ठग रही हर्ल

 

देश के प्रधानमंत्री का ड्रीम प्रोजेक्ट हर्ल ने सिंदरी व इसके आस पास के स्थानीय युवाओं के विकास के साथ लगातार खिलवाड़ कर रही है। हर्ल महाप्रबंधकों द्वारा स्वतंत्रता दिवस और गणतंत्र दिवस के अवसर पर दिए गए अपने अभिभाषण में युवाओं के कौशल विकास की बात किया जाता रहा है। वह बेअर्थी साबित होता दिख रहा है और युवा ठगे हुए महसूस कर रहे हैं।

हर्ल प्रोजेक्ट निर्माण से पूर्व विगत जनवरी 2018 में सिन्दरी के आफिसर्स कल्ब में हर्ल के पूर्व एमडी अरुण कुमार गुप्ता ने जनसुनवाई में कहा था कि स्थानीय लोगों को प्राथमिकता के आधार पर सभी सुविधाएँ उपलब्ध कराई जाएगीं। इस जनसुनवाई में हर्ल प्रोजेक्ट के प्रथम कार्यवाहक महाप्रबंधक संजय चावला, अपर महाप्रबंधक मुकेश चंद्र कर्ण, धनबाद सांसद पशुपतिनाथ सिंह, तत्कालीन सिंदरी विधायक फूलचंद मंडल सहित कई दलों के प्रतिनिधि शामिल थे। जनसुनवाई के बाद विगत 25 मई 2018 को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी द्वारा बलियापुर हवाई पट्टी से हर्ल प्रोजेक्ट का ऑनलाइन उद्घाटन के दौरान स्थानीय युवाओं के कौशल विकास की बात कही थी। विगत चार वर्षों में भी इसकी अनदेखी करते हुए हर्ल प्रबंधन सिर्फ अपने अभिभाषणों में व्यक्त कर कौशल विकास केंद्र की स्थापना नहीं कर पाने से सिंदरी व इसके आसपास के क्षेत्रों के युवाओं के भविष्य के साथ खिलवाड़ कर रही है। अगर हर्ल प्रबंधन बीते कुछ दिनों में इसकी स्थापना कर देती तो युवाओं को प्रत्यक्ष रुप से रोजगार के अवसर बन गए होते। प्राप्त जानकारी के अनुसार हर्ल सिंदरी प्रोजेक्ट में फिलहाल सिन्दरी के एक टेक्निकल उपाध्यक्ष व दो अभियंता कार्यरत हैं। सिंदरी के युवा वादा किए गए कौशल विकास केंद्र के खुलने की टकटकी लगाए बैठे हैं। सिंदरी के जनप्रतिनिधियों, विभिन्न दलों व मंचों को चाहिए कि सिंदरी के शहरी व ग्रामीण क्षेत्रों के युवाओं के लिए आवाज बुलंद करें।

व्हाट्सप्प आइकान को दबा कर इस खबर को शेयर जरूर करें 

स्वतंत्र और सच्ची पत्रकारिता के लिए ज़रूरी है कि वो कॉरपोरेट और राजनैतिक नियंत्रण से मुक्त हो। ऐसा तभी संभव है जब जनता आगे आए और सहयोग करे

Donate Now

[responsive-slider id=1466]
error: Content is protected !!