Hindi English Gujarati Marathi Urdu
नमस्कार हमारे न्यूज पोर्टल - मे आपका स्वागत हैं ,यहाँ आपको हमेशा ताजा खबरों से रूबरू कराया जाएगा , खबर ओर विज्ञापन के लिए संपर्क करे +91 7016137778 / +91 9537658850 ,हमारे यूट्यूब चैनल को सबस्क्राइब करें, साथ मे हमारे फेसबुक को लाइक जरूर करें , आर्ट ऑफ लिविंग, धनबाद एवं वैदिक धर्म संस्थान द्वारा आज आयोजित श्रावण मास स्पेशल, सामूहिक रुद्र पूजा राजकमल स्कूल में। – Joshi News

Joshi News

Latest Online Breaking News

आर्ट ऑफ लिविंग, धनबाद एवं वैदिक धर्म संस्थान द्वारा आज आयोजित श्रावण मास स्पेशल, सामूहिक रुद्र पूजा राजकमल स्कूल में।

😊 Please Share This News 😊

धनबाद, रविवार, 24 जुलाई 2022

आर्ट ऑफ लिविंग, धनबाद एवं वैदिक धर्म संस्थान द्वारा आज आयोजित श्रावण मास स्पेशल, सामूहिक रुद्र पूजा राजकमल स्कूल में।

वैदिक धर्म संस्थान परम पूज्य श्री श्री रविशंकर जी से प्रेरित एक सार्वजनिक धर्मार्थ, धार्मिक, आध्यात्मिक, शैक्षिक संस्था है। यह भारतीय संस्कृति और शैक्षिक विरासत की उन्नति के लिए काम करता है और बड़े पैमाने पर लोगों के सामाजिक सांस्कृतिक शैक्षिक और आध्यात्मिक विकास को बढ़ावा देता है।

2 वर्ष कोरोना काल के बाद आर्ट ऑफ लिविंग धनबाद ने वैदिक धर्म संस्थान बैंगलोर के साथ हर साल की तरह, रविवार को राजकमल स्कूल, धनसार में श्री रुद्रम के पवित्र वैदिक मंत्रोच्चार के बीच सामुहिक रुद्र पूजा का आयोजन किया गया, जहां भगवान शिव को दूध, दही, शहद, घी के साथ रुद्र के रूप में पूजा हुई।

पूजा का संचालन आर्ट आफ लिविंग के सीनियर टीचर प्रदीप शुक्ला जी और सोमनाथ से वैदिक पंडित अर्पित दुबे व पंडित सूर्यप्रकाश द्विवेदी जी ने किया। प्रदीप जी एक मरीन इंजीनियर हैं और लम्बे समय तक भारतीय नौसेना और डीआरडीओ जैसे बड़े संस्थाओं में अपनी सेवा दी है।

राजकमल स्कूल में पूरे धनबाद से लोग भारी संख्या में जमा हुए। भक्तों ने पूजा के दौरान संकल्प भी लिया। ऐसा माना जाता है कि विशेष रूप से श्रावण के महीने में रुद्र पूजा में बैठने से सकारात्मकता का उदय होता है, भय दूर होता है और सुख का उदय होता है। शिव को समुद्र मंथन से विष लेने के लिए जाना जाता है, उसी तरह रुद्र पूजा करते समय अपने और आसपास के वातावरण से सभी नकारात्मकता को दूर कर देता है।कार्यक्रम में उपस्थित सभी लोग वेद मंत्रों में डूब गए और शिव भजनों पर नृत्य किया और बहुत आनंद का अनुभव किया।

यह पूजा आर्ट ऑफ लिविंग के वरिष्ठ सदस्यों विनोद तुलसीयन, मुकुर ठक्कर, सुभाष अग्रवाल, अनिल बर्नावल और पिंटू सिंह के अथक सहयोग से आयोजित की गई थी। इस अवसर पर आर्ट ऑफ लिविंग के शिक्षक सोनाली सिंह, मयंक सिंह, प्रियंका कुमारी, जयश्री दास, ऋत्विक दुदानी और मेधा दुदानी भी मौजूद थे।

व्हाट्सप्प आइकान को दबा कर इस खबर को शेयर जरूर करें 

स्वतंत्र और सच्ची पत्रकारिता के लिए ज़रूरी है कि वो कॉरपोरेट और राजनैतिक नियंत्रण से मुक्त हो। ऐसा तभी संभव है जब जनता आगे आए और सहयोग करे

Donate Now

[responsive-slider id=1466]
error: Content is protected !!